उत्तराखंड सरकार सुबोध उनियाल ने देवस्थानम बोर्ड को निर्देश दिए चार धाम यात्रा की तैयारी 01 जुलाई गंगोत्री यमुनोत्री केदारनाथ बद्रीनाथ

0
41

उत्तराखंड में कोरोना के मामलों में कमी के बीच सरकार चारधाम यात्रा शुरू करने के मूड में दिख रही है. यात्रा शुरू करने की मंजूरी मिली तो गंगोत्री, बद्रीनाथ, केदारनाथ समेत यमुनोत्री धाम के श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे. सरकार के प्रवक्ता एवं कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने चारधाम देवस्थानम बोर्ड को 1 जुलाई तक यात्रा संबंधी सभी तैयारियां पूरी करने का निर्देश दिया है. उनियाल ने कहा कि हाईकोर्ट के निर्देश के आधार पर चारधाम यात्रा शुरू करने पर विचार किया जाएगा. देश और राज्य में कोरोना महामारी के चलते सरकार ने पिछले साल 2020 में भी यात्रा शुरू करने की अनुमति नहीं दी थी.

2021 में भी कोविड मामलों के कारण यात्रा रद्द कर दी गई है, हालांकि चारों धामों के कपाट अपनी तय सीमा पर खुले थे. सरकार ने पहले 15 जून को भक्तों के लिए आंशिक रूप से चारधाम यात्रा शुरू करने का फैसला किया था। पहले चरण में उत्तरकाशी, चमोली और रुद्रप्रयाग जिलों के निवासियों को धाम के दर्शन की अनुमति दी गई थी। तीनों जिलों से मंदिरों में जाने वाले श्रद्धालुओं की 72 घंटे की कोरोना निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य कर दी गई है। रुद्रप्रयाग जिले के केदारनाथ धाम, चमोली जिले के यात्री बद्रीनाथ धाम और उत्तरकाशी जिले के श्रद्धालुओं को गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के दर्शन की अनुमति दी गई.

लेकिन, हाईकोर्ट में सुनवाई के चलते सरकार ने फैसला पलट दिया। आपको बता दें कि यमुनोत्री धाम के कपाट 14 मई, गंगोत्री 15 मई, केदारनाथ 17 मई और बद्रीनाथ 18 मई को खोले गए. लेकिन, कोरोना संक्रमण के चलते सरकार ने तीर्थयात्रियों को यात्रा की अनुमति नहीं दी. दूसरी ओर तीर्थ पुरोहित देवस्थानम बोर्ड से यात्रा रद्द करने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं.

सम्बंधित खबर

.

Previous articleएम्स दिल्ली 18 जून से चरणबद्ध तरीके से आउट पेशेंट सेवाएं फिर से शुरू करेगा | ताजा खबर दिल्ली
Next articleअगले सत्र से सभी डिग्री कॉलेजों में ‘अंग्रेजी माध्यम’ अनिवार्य करने के लिए आंध्र

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here