शिक्षकों ने की पेंशन की मांग

0
24

शिक्षा संगठन नरेंद्रनगर ने 2004 की रिलीज के तहत नियुक्त शिक्षकों को पेंशन का लाभ देने की मांग करते हुए एक प्रस्ताव पारित किया। संगठन ने बताया कि 2004 में एक विशिष्ट बीटीसी रिलीज जारी की गई थी। इस रिलीज के माध्यम से नियुक्त शिक्षक पेंशन के हकदार हैं। जबकि अंशदायी पेंशन योजना 1 अक्टूबर 2005 से लागू हो गई है। विभाग को विशेष रूप से प्रशिक्षित बीटीसी शिक्षकों की नियुक्ति में दो साल लग गए। जिसका खामियाजा आज इन शिक्षकों को भुगतना पड़ रहा है। जो अंशदायी पेंशन योजना से जुड़े थे। जबकि 2004 की विज्ञप्ति के अनुसार नियुक्ति पाने वाले शिक्षकों को पुरानी पेंशन योजना का लाभ मिलना चाहिए था। इन शिक्षकों का समर्थन करते हुए शिक्षा संगठन नरेंद्रनगर ने प्रस्ताव पारित कर कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल के समक्ष प्रस्ताव रखने का फैसला किया, जिसमें मांग की गई थी कि 2004 की विज्ञप्ति के आधार पर नियुक्त शिक्षकों को पुरानी पेंशन दी जाए. बैठक में सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव भी पारित किया गया कि 17140 का लाभ उन सभी शिक्षकों को दिया जाए जो 4600 ग्रेड पे पर पहुंच चुके हैं। 17140 लाभ न मिलने व विभागीय लापरवाही से प्रदेश भर में हजारों शिक्षक आर्थिक नुकसान का सामना कर रहे हैं। बैठक में पुरानी पेंशन बहाली आंदोलन को समर्थन दिया गया. इस मौके पर प्रखंड मंत्री राकेश उनियाल, पूर्णानंद बहुगुणा, अर्जुन राणा, उत्तम असवाल, विक्रम राणा, सुंदर सिंह नेगी, सुरेश बिजलवान, यशपाल चौहान, कंचन उनियाल, सुनैना बिजलवान, उमा दीदी, ललिता राणा, सरला रावत, सुधा द्विवेदी, नरेंद्र सकलानी , महेश गुसाईं आदि।

सम्बंधित खबर

.

Previous articleकैसे वास्तु शास्त्र कोविड -19 के कारण करियर संकट में मदद कर रहा है
Next articleदिल्ली के दैनिक कोविड -19 मामले गिरकर 131 हो गए, सकारात्मकता दर 0.22% | ताजा खबर दिल्ली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here