- Advertisement -spot_img
HomeUttarakhandDehradunUttarakhand Election 2022 News: Panchayat Representatives Conference In Rudrapur Today, Chief Minister...

Uttarakhand Election 2022 News: Panchayat Representatives Conference In Rudrapur Today, Chief Minister Pushkar Singh Dhami Will Also Reach – पंचायत प्रतिनिधि सम्मेलन: सीएम धामी की बड़ी घोषणा, जिला पंचायत अध्यक्षों को देंगे मंत्री का दर्जा

- Advertisement -spot_img


Uttarakhand Election 2022: रुद्रपुर के गांधी पार्क में बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री धामी ने दीप प्रज्ज्वलित कर लोक योजना अभियान के तहत कुमाऊं के त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों के सम्मेलन का शुभारंभ किया।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देशभर में पंचायतीराज व्यवस्था को मजबूत करने का काम किया जा रहा है। हमारा देश गांवों और पंचायतों में बसता है, इसलिए त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधि हमारी असली ताकत हैं। मुख्यमंत्री ने जिला पंचायत अध्यक्षों को पूर्व की भांति मंत्री का दर्जा देने की घोषणा की।

ग्राम प्रधानों को 10 हजार रुपये प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा
उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायत प्रतिनिधियों ने कोरोना वारियर्स की भांति कार्य किया है। उन्होंने महामारी में सराहनीय कार्य के लिए ग्राम प्रधानों को 10 हजार रुपये प्रोत्साहन राशि देने और उस अवधि में जनप्रतिनिधियों पर दर्ज मुकदमे वापस लेने की घोषणा की। उन्होंने बीडीसी और जिला पंचायत सदस्यों का भत्ता बढ़ाने की बात भी कही।

उत्तराखंड सत्ता संग्राम 2022: आम आदमी पार्टी आज कुमाऊं से शुरू करेगी विजय शंखनाद यात्रा

रुद्रपुर के गांधी पार्क में बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री धामी ने दीप प्रज्ज्वलित कर लोक योजना अभियान के तहत कुमाऊं के त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों के सम्मेलन का शुभारंभ किया। सीएम ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारें अपनी कैबिनेट बैठकों में विकास से संबंधित चाहे जितने प्रस्ताव पास कर दें, लेकिन जब तक ग्राम प्रधान, बीडीसी सदस्य और जिला पंचायत सदस्यों का सहयोग नहीं मिलेगा कोई भी योजना धरातल पर सफल नहीं हो सकेगी। ग्रामीण क्षेत्रों में सरकारी योजनाओं को सही ढंग से लागू करवाने की जिम्मेदारी पंचायत प्रतिनिधियों पर ही है। सीएम ने घोषणा की कि पूर्व की भांति राज्य के जिला पंचायत अध्यक्षों को दर्जा मंत्री बनाया जाएगा।

सीएम ने डीएम और सीडीओ को निर्देश दिए कि जिले में जिन लोगों को प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के लिए पूरे दस्तावेज नहीं होने के कारण लाभ नहीं मिल पा रहा है, उनका नाम सूची से न हटाया जाए। सरकार शीघ्र ही इसका विकल्प निकालेगी, ताकि कोई भी जरूरतमंद सरकारी योजनाओं के लाभ से वंचित न रहे। सीएम ने कहा कि प्रत्येक जिले में नशामुक्ति केंद्र खोले जाने की तैयारी है। इससे पूर्व मुख्यमंत्री धामी का गांधी पार्क में आयोजित सम्मेलन में पहुंचने पर कुमाऊंनी वाद्य यंत्रों के साथ स्वागत किया गया। सम्मेलन में कुमाऊं मंडल के सभी जिलों से पहुंचे करीब 5000 पंचायत प्रतिनिधियों को लोक योजना अभियान के तहत प्रशिक्षण दिया गया।

वहां जिला प्रभारी मंत्री यतीश्वरानंद, खेल मंत्री अरविंद पांडेय, विधायक राजकुमार ठुकराल, किच्छा विधायक राजेश शुक्ला, मेयर रामपाल सिंह, पिथौरागढ़ की जिला पंचायत अध्यक्ष दीपिका बोरा, नैनीताल की बेला तोलिया, बागेश्वर की बसंती देव, अल्मोड़ा की उमा बिष्ट, चंपावत की ज्योति राय, उत्तराखंड ग्राम प्रधान संगठन के प्रदेश अध्यक्ष भाष्कर संभल, भाजपा जिलाध्यक्ष शिव अरोरा, सुरेश गंगवार, राजेंद्र बिष्ट, कुंडल महर, मनोहर आर्या, धर्म सिंह कोली आदि थे।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कोरोना महामारी के दौरान सराहनीय कार्य करने वाले ग्राम प्रधानों और ग्राम पंचायत विकास अधिकारियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। सम्मानित होने वाले ग्राम प्रधानों में दिवाकर जोशी, द्रोपदी देवी, मनीष आर्या व शेर चंद्र शामिल थे, जबकि ग्राम पंचायत विकास अधिकारियों में रीता बिष्ट, मीरा पासवान, नारायण सिंह व त्रिलोक सिंह आदि शामिल थे।

अब आंबेडकर चौक के नाम से जाना जाएगा बाटा चौक
मेयर रामपाल सिंह की मांग पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शहर के बाटा चौक का नाम बाबा साहेब डा. भीमराव आंबेडकर के नाम पर करने की घोषणा की। शहर के मुख्य बाजार को जाने वाले मार्ग पर स्थित बाटा चौक के पास ही बाबा साहब डा. भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा स्थापित है। शहर के लोग लंबे समय से इस चौक का नाम बाबा साहेब डा. आंबेडकर चौक रखने की मांग कर रहे थे। इसके लिए मेयर ने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। संवाद

सीएम ने वीरेंद्र सामंती के नाम पर स्कूल और मार्ग के नामकरण की घोषणा की
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी बिगवाड़ा पहुंचकर पूर्व मंडी अध्यक्ष स्व. वीरेंद्र सिंह सामंती की अंतिम अरदास में शामिल हुए। इस दौरान सीएम स्व. सामंती के स्मरण में वार्ड नंबर-16 बिगवाड़ा के राजकीय प्राथमिक विद्यालय का नाम स्व. वीरेंद्र सिंह सामंती राजकीय प्राथमिक विद्यालय करने और एनएच-74 के खटीमा-पानीपत मार्ग स्थित मेडीसिटी अस्पताल से करतारपुर-सुआनगला मार्ग का नाम स्व. सामंती के नाम पर रखने की घोषणा की। साथ ही स्व. सामंती की स्मृति में बिगवाड़ा श्मशानघाट पर सौंदर्यीकरण कराए जाने की घोषणा की।

सीएम ने सामंती के निधन पर गहरा दु:ख व्यक्त करते हुए शोकाकुल परिजनों को सांत्वना दी। कहा कि स्व. सामंती को सामाजिक कार्यों और व्यावहारिक व्यक्तित्व के कारण हमेशा याद रखा जाएगा। वहां कैबिनेट मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद, खेल मंत्री अरविंद पांडेय, विधायक राजकुमार ठुकराल, किच्छा विधायक राजेश शुक्ला, उत्तर प्रदेश के मंत्री बलदेव सिंह ओलख, मेयर रामपाल सिंह, उत्तराखंड वन विकास निगम के अध्यक्ष सुरेश परिहार, किसान आयोग उपाध्यक्ष राजपाल सिंह आदि थे। ज्ञात हो कि कुछ दिन पहले वीरेंद्र सिंह सामंती की सड़क हादसे में मौत हो गई थी। संवाद

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देशभर में पंचायतीराज व्यवस्था को मजबूत करने का काम किया जा रहा है। हमारा देश गांवों और पंचायतों में बसता है, इसलिए त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधि हमारी असली ताकत हैं। मुख्यमंत्री ने जिला पंचायत अध्यक्षों को पूर्व की भांति मंत्री का दर्जा देने की घोषणा की।

ग्राम प्रधानों को 10 हजार रुपये प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायत प्रतिनिधियों ने कोरोना वारियर्स की भांति कार्य किया है। उन्होंने महामारी में सराहनीय कार्य के लिए ग्राम प्रधानों को 10 हजार रुपये प्रोत्साहन राशि देने और उस अवधि में जनप्रतिनिधियों पर दर्ज मुकदमे वापस लेने की घोषणा की। उन्होंने बीडीसी और जिला पंचायत सदस्यों का भत्ता बढ़ाने की बात भी कही।

उत्तराखंड सत्ता संग्राम 2022: आम आदमी पार्टी आज कुमाऊं से शुरू करेगी विजय शंखनाद यात्रा

रुद्रपुर के गांधी पार्क में बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री धामी ने दीप प्रज्ज्वलित कर लोक योजना अभियान के तहत कुमाऊं के त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों के सम्मेलन का शुभारंभ किया। सीएम ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारें अपनी कैबिनेट बैठकों में विकास से संबंधित चाहे जितने प्रस्ताव पास कर दें, लेकिन जब तक ग्राम प्रधान, बीडीसी सदस्य और जिला पंचायत सदस्यों का सहयोग नहीं मिलेगा कोई भी योजना धरातल पर सफल नहीं हो सकेगी। ग्रामीण क्षेत्रों में सरकारी योजनाओं को सही ढंग से लागू करवाने की जिम्मेदारी पंचायत प्रतिनिधियों पर ही है। सीएम ने घोषणा की कि पूर्व की भांति राज्य के जिला पंचायत अध्यक्षों को दर्जा मंत्री बनाया जाएगा।

सीएम ने डीएम और सीडीओ को निर्देश दिए कि जिले में जिन लोगों को प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के लिए पूरे दस्तावेज नहीं होने के कारण लाभ नहीं मिल पा रहा है, उनका नाम सूची से न हटाया जाए। सरकार शीघ्र ही इसका विकल्प निकालेगी, ताकि कोई भी जरूरतमंद सरकारी योजनाओं के लाभ से वंचित न रहे। सीएम ने कहा कि प्रत्येक जिले में नशामुक्ति केंद्र खोले जाने की तैयारी है। इससे पूर्व मुख्यमंत्री धामी का गांधी पार्क में आयोजित सम्मेलन में पहुंचने पर कुमाऊंनी वाद्य यंत्रों के साथ स्वागत किया गया। सम्मेलन में कुमाऊं मंडल के सभी जिलों से पहुंचे करीब 5000 पंचायत प्रतिनिधियों को लोक योजना अभियान के तहत प्रशिक्षण दिया गया।

वहां जिला प्रभारी मंत्री यतीश्वरानंद, खेल मंत्री अरविंद पांडेय, विधायक राजकुमार ठुकराल, किच्छा विधायक राजेश शुक्ला, मेयर रामपाल सिंह, पिथौरागढ़ की जिला पंचायत अध्यक्ष दीपिका बोरा, नैनीताल की बेला तोलिया, बागेश्वर की बसंती देव, अल्मोड़ा की उमा बिष्ट, चंपावत की ज्योति राय, उत्तराखंड ग्राम प्रधान संगठन के प्रदेश अध्यक्ष भाष्कर संभल, भाजपा जिलाध्यक्ष शिव अरोरा, सुरेश गंगवार, राजेंद्र बिष्ट, कुंडल महर, मनोहर आर्या, धर्म सिंह कोली आदि थे।

More Info…

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img
Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read
- Advertisement -spot_img
Related News
- Advertisement -spot_img