spot_img
HomeUttarakhandDehradunUttarakhand News: Cm Pushkar Singh Dhami Will Inaugurate Crushing Season Of Sitarganj...

Uttarakhand News: Cm Pushkar Singh Dhami Will Inaugurate Crushing Season Of Sitarganj Sugar Mill – उत्तराखंड: सीएम धामी ने किसानों को दी बड़ी राहत, 28 रुपये प्रति कुंतल बढ़ाया गन्ने का मूल्य

- Advertisement -spot_img


गन्ने की अगेती प्रजाति का भाव 355 रुपये प्रति कुंतल और सामान्य प्रजाति का भाव 345 रुपये प्रति कुंतल किया गया।

‘21वीं सदी में किसान को आधुनिक और साधन संपन्न बनाने के लिए काम किया जा रहा है। इसी कड़ी में अगेती गन्ने का मूल्य 355 रुपये और सामान्य गन्ने का मूल्य 345 रुपये प्रति कुंतल किया जा रहा है।’ मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गन्ना मूल्य 28 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाने की घोषणा करते हुए कहा कि डबल इंजन की सरकार का किसानों की आमदनी बढ़ाने पर फोकस है। धामी ने ये बातें सितारगंज चीनी मिल के पेराई सत्र का शुभारंभ करते हुए कहीं।

चार सालों से बंद दि किसान सहकारी चीनी मिल का पेराई सत्र सोमवार को चालू हो गया। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा, जिले के प्रभारी मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद और विधायक सौरभ बहुगुणा ने हवन यज्ञ किया। उन्होंने किसान प्रगट सिंह को शॉल ओढ़ाकर और उपहार स्वरूप बाल्टी देकर सम्मानित किया। इसके बाद चेन में गन्ना डालकर पेराई सत्र का शुभारंभ किया। सीएम ने कहा कि चीनी मिल चालू होने के साथ विकास का नया अध्याय शुरू हो गया। बाजपुर, किच्छा या बहेड़ी गन्ना लेकर जाने वाले किसानों को अब आसानी होगी। पीपीपी मोड के निर्णय पर लंबा समय लग रहा था। इसलिए ऐसे ही मिल को चलाया गया है। अब ये मिल चलती रहेगी।

धामी ने कहा कि पीएम मोदी से अनुरोध करने पर उन्होंने कुमाऊं मंडल को एम्स की स्वीकृति दी। राज्य में रेल सेवाएं बढ़ाने की मांग की गई है। किच्छा-खटीमा रेलवे लाइन बिछाने का प्रयास कर रहे हैं। टनकपुर से बागेश्वर तक 155 किमी रेल लाइन बनेगी। केंद्र से मंजूरी मिलने के साथ ही 29 करोड़ रुपये सरकार को मिल गए हैं। प्रदेश की सड़कें बेहतर कर दी गई हैं। अफजलगढ़ से नजीबाबाद सड़क स्वीकृत हो गई है। जमरानी बांध परियोजना भी स्वीकृत हो गई है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि में राज्य के नौ लाख से अधिक किसानों के बैंक खातों में 1300 करोड़ की धनराशि दी जा चुकी है। प्रदेश में आठ लाख 82000 किसानों को मृदा कार्ड दिए गए। मिट्टी की पहचान होने से खाद की खपत घटने पर प्रदेश को 200 करोड़ से अधिक की बचत हुई है। पहाड़ व मैदानी क्षेत्रों के लिए अलग-अलग नीति पर काम कर रहे हैं।

सीएम ने चीनी मिल के 40 मृतक आश्रितों के परिवारों को उचित सहायता राशि देने का भरोसा दिलाया। कहा कि यूपी में 350 रुपये प्रति क्विंटल गन्ने का मूल्य घोषित किया गया है जबकि उत्तराखंड ने सीकर गन्ने का 355 रुपये जबकि सामान्य गन्ने का 345 रुपये प्रति क्विंटल मूल्य देने की घोषणा की।

किसानों को क्रय केंद्र से लेकर चीनी मिल तक गन्ना लाने में 11 रुपये क्विंटल किराया देना पड़ता था, जिसे 9.50 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है। कहा कि भविष्य में इस चीनी मिल से बिजली पैदा होगी और एथनॉल का प्लांट लगाया जाएगा। पूर्व सीएम विजय बहुगुणा ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना में समूचे विश्व की अर्थ व्यवस्था चरमरा गई। लेकिन पीएम मोदी ने भारत में चुनौतियों का सामना किया और आज फिर देश खुशहाली के रास्ते बढ़ चला है। जिले के प्रभारी मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद ने कहा कि सितारगंज चीनी मिल को चलाने के लिए सरकार में पैरवी की और आज मिल चालू भी हो गई।

सीएम ने बंगाली समुदाय की नमोशूद्र, पौंड, माझी जाति के अनुसूचित वर्ग के शैक्षणिक उत्थान के लिए गुरुचांद ठाकुर फंड की राशि दो करोड़ से बढ़ाकर चार करोड़ और सिख समुदाय के लिए संत केसर सिंह कोष की धनराशि दो करोड़ से बढ़ाकर चार करोड़ करने की घोषणा की।

चार महीने में पांच सौ से अधिक फैसले लिए
मुख्यमंत्री ने कहा कि पीएम ने 2025 में उत्तराखंड की रजत जयंती पर प्रदेश को सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाने का विजन रखा है। इसके लिए विशेषज्ञ, वैज्ञानिक व विशिष्ट सेवाएं देने वालों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। बताया कि चार महीने में 500 से अधिक फैसले लिए हैं और शासनादेश भी कर दिए गए हैं।

अपनी सरकार के कार्यों को गिनाया
सीएम कहा कि प्रतिभावान खिलाड़ियों की प्रतिभा उभारने के लिए नई खेल नीति लेकर आए हैं। कोरोना में अनाथ बच्चों के लिए वात्सल्य योजना चलाई है। महालक्ष्मी किट योजना, रोजगार के लिए मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, रोजगार मेले चालू किए हैं। ताकि एक ही जगह पर युवाओं की स्क्रूटनी कर उन्हें नौकरी दी जा सके। उद्योगपतियों के विभागों में फंसे मामलों को निपटाने के लिए कैबिनेट ने कमेटी बनाई है। ओटीआर सिस्टम के तहत सभी मामले खत्म किए जाएंगे।

विस्तार

‘21वीं सदी में किसान को आधुनिक और साधन संपन्न बनाने के लिए काम किया जा रहा है। इसी कड़ी में अगेती गन्ने का मूल्य 355 रुपये और सामान्य गन्ने का मूल्य 345 रुपये प्रति कुंतल किया जा रहा है।’ मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गन्ना मूल्य 28 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाने की घोषणा करते हुए कहा कि डबल इंजन की सरकार का किसानों की आमदनी बढ़ाने पर फोकस है। धामी ने ये बातें सितारगंज चीनी मिल के पेराई सत्र का शुभारंभ करते हुए कहीं।

चार सालों से बंद दि किसान सहकारी चीनी मिल का पेराई सत्र सोमवार को चालू हो गया। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा, जिले के प्रभारी मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद और विधायक सौरभ बहुगुणा ने हवन यज्ञ किया। उन्होंने किसान प्रगट सिंह को शॉल ओढ़ाकर और उपहार स्वरूप बाल्टी देकर सम्मानित किया। इसके बाद चेन में गन्ना डालकर पेराई सत्र का शुभारंभ किया। सीएम ने कहा कि चीनी मिल चालू होने के साथ विकास का नया अध्याय शुरू हो गया। बाजपुर, किच्छा या बहेड़ी गन्ना लेकर जाने वाले किसानों को अब आसानी होगी। पीपीपी मोड के निर्णय पर लंबा समय लग रहा था। इसलिए ऐसे ही मिल को चलाया गया है। अब ये मिल चलती रहेगी।

धामी ने कहा कि पीएम मोदी से अनुरोध करने पर उन्होंने कुमाऊं मंडल को एम्स की स्वीकृति दी। राज्य में रेल सेवाएं बढ़ाने की मांग की गई है। किच्छा-खटीमा रेलवे लाइन बिछाने का प्रयास कर रहे हैं। टनकपुर से बागेश्वर तक 155 किमी रेल लाइन बनेगी। केंद्र से मंजूरी मिलने के साथ ही 29 करोड़ रुपये सरकार को मिल गए हैं। प्रदेश की सड़कें बेहतर कर दी गई हैं। अफजलगढ़ से नजीबाबाद सड़क स्वीकृत हो गई है। जमरानी बांध परियोजना भी स्वीकृत हो गई है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि में राज्य के नौ लाख से अधिक किसानों के बैंक खातों में 1300 करोड़ की धनराशि दी जा चुकी है। प्रदेश में आठ लाख 82000 किसानों को मृदा कार्ड दिए गए। मिट्टी की पहचान होने से खाद की खपत घटने पर प्रदेश को 200 करोड़ से अधिक की बचत हुई है। पहाड़ व मैदानी क्षेत्रों के लिए अलग-अलग नीति पर काम कर रहे हैं।

सीएम ने चीनी मिल के 40 मृतक आश्रितों के परिवारों को उचित सहायता राशि देने का भरोसा दिलाया। कहा कि यूपी में 350 रुपये प्रति क्विंटल गन्ने का मूल्य घोषित किया गया है जबकि उत्तराखंड ने सीकर गन्ने का 355 रुपये जबकि सामान्य गन्ने का 345 रुपये प्रति क्विंटल मूल्य देने की घोषणा की।

किसानों को क्रय केंद्र से लेकर चीनी मिल तक गन्ना लाने में 11 रुपये क्विंटल किराया देना पड़ता था, जिसे 9.50 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है। कहा कि भविष्य में इस चीनी मिल से बिजली पैदा होगी और एथनॉल का प्लांट लगाया जाएगा। पूर्व सीएम विजय बहुगुणा ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना में समूचे विश्व की अर्थ व्यवस्था चरमरा गई। लेकिन पीएम मोदी ने भारत में चुनौतियों का सामना किया और आज फिर देश खुशहाली के रास्ते बढ़ चला है। जिले के प्रभारी मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद ने कहा कि सितारगंज चीनी मिल को चलाने के लिए सरकार में पैरवी की और आज मिल चालू भी हो गई।

More Info…

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img
Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read
- Advertisement -spot_img
Related News
- Advertisement -spot_img